Hindi News: assault on cs case | kejriwal may be stubborn, not violent, says cm | मैं जिद्दी हो सकता हूं, हिंसक नहीं : केजरीवाल

0
2
views

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली

बुधवार को कर्मचारियों के एक समूह के सामने सीएम अरविंद केजरीवाल चीफ सेक्रटरी के साथ कथित मारपीट के मामले पर खुलकर बोले। उन्होंने कहा कि पिछले 10-15 दिनों से एक झूठ खूब प्रचारित किया जा रहा है, लेकिन घटनाक्रम राजनीतिक साजिश का एक हिस्सा है। सीएम ने कहा कि केजरीवाल जिद्दी हो सकता, हिंसक नहीं।

केजरीवाल ने कहा कि मारपीट कायर लोग करते हैं और वह कायर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वह अपने लोगों से क्यों मारपीट करेंगे? दिल्ली सरकार के सारे अफसर और कर्मचारी एक परिवार हैं। परिवार में अगर कोई विवाद होता है, तो उसे बातचीत से सुलझाया जाता है।

जॉइंट काउंसिल ऑफ ऑल एंप्लॉइज असोसिएशन के बैनर तले कर्मचारी सीएम हाउस आए थे। सीएम ने उनको संबोधित करते हुए कहा कि एक गलत बात को जिस तरह से बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है, वह राजनीतिक साजिश के तहत किया गया है। अगले दिन कर्मचारियों को भड़काया गया और दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाने की बात सामने आने लगी। इससे इस साजिश का साफ पता चलता है।

सीएम ने कहा कि पराया दर्द दे तो कम होता है, लेकिन अपनों का दर्द ज्यादा होता है। उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि बहुत तकलीफ हुई, जब वे लोग भी उनके विरोध में आ गए। केजरीवाल ने कर्मचारियों से कहा, ‘एक बार मुझसे मिलकर पूछ लेते कि आखिर हुआ क्या था? अगर मैं कर्मचारियों से नहीं मिलता तो आप मुझ पर आरोप लगा सकते थे, लेकिन एकतरफा बात सुनकर गलतफहमी न पालें, हमेशा दोनों पक्ष को सुनें। अगर आगे कभी कोई बात हो तो कर्मचारी सीधे मुझसे मिलें।’

सीएम ने कहा कि दिल्ली सरकार के सभी कर्मचारी और अफसर परिवार हैं। उन्होंने कहा कि वह सबको परिवार का हिस्सा मानते हैं। केवल चार मंत्री मिलकर थोड़े कुछ कर सकते हैं। केजरीवाल ने कहा कि 3 साल में AAP सरकार ने जो कामयाबी हासिल की है, उसमें कर्मचारियों और अफसरों की अहम भूमिका रही है। कर्मचारियों का वह ख्याल रखेंगे और कर्मचारी जनता का ख्याल रखें, ताकि दिल्ली का विकास हो सके।

केजरीवाल ने यह भी कहा कि अन्ना आंदोलन के समय से ही साजिशों का दौर चल रहा है। सरकार बनाने के 3 साल बाद तक यह जारी है, लेकिन इन राजनीतिक साजिशों के खिलाफ वह लड़ते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट के फैसले के बाद सर्विसेज दिल्ली सरकार के पास नहीं है, लेकिन इसके बाद भी सरकार की पूरी कोशिश है कि कर्मचारियों की हर समस्या को सुलझाया जाए।

एंप्लॉइज जॉइंट काउंसिल के अध्यक्ष डी. एन. सिंह ने कहा कि कोई भी विवाद होता है, तो उसका हल बातचीत से ही हो सकता है। अगर सिर्फ इस बात पर ही अड़ा रहा जाएगा कि जब तक सीएम और डेप्युटी सीएम माफी नहीं मांगेंगे तब तक कोई बातचीत नहीं होगी, तो यह ठीक नहीं है। कर्मचारियों के हितों को लेकर मांग पत्र तैयार किया जाना चाहिए और तमाम मुद्दों पर बात होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जॉइंट काउंसिल चाहती है कि यह मुद्दा हल हो, इसलिए सीएम से मिले थे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here